14.9.07

विकास कुमार की आवाज़ में मेरी कविता 'अंतर्द्वन्द्व'

मेरी कविता अंतर्द्वन्द्व अब विकास कुमार की आवाज़ में यहाँ सुने

इसके पहले मेरी कविता हर लम्हा एक विस्मय भी आई थी विकास कुमार की आवाज में

धन्यवाद विकास :)

1 comment:

Udan Tashtari said...

बढ़िया आवाज दी है विकास ने आपकी कविता को, बधाई.