27.10.07

नन्हा सा पल

हिन्द-युग्म पर नन्हा सा पल :

मेरे एक पल ने
आज फिर मुझसे कहा है
मैं तुम्हासरे संग
अपना वह
नन्हा सा पल बाँट लूँ
जो अब तक
बस मेरा होकर रहा है ।
वह पल
जिसमें सिर्फ मैं हूँ,
वह नन्हें कण सा
नन्हा पल .... [ पूरा पढ़ें
]

3 comments:

आशीष said...

खूबसूरत रचना

आशीष said...

खूबसूरत रचना

आशीष said...

खूबसूरत रचना